Skip to main content

दिन तो महिलाओं का है पर बात पुरुषों की है

कल सम्पूर्ण विश्व के साथ भारत में भी "महिला दिवस" मनाया जाएगा. इस बार ये थोड़ा सा और खास इसलिए भी है क्युकी २०१८ में यह आयोजन अपने १०० वें वर्ष में प्रवेश कर रहा है. आधुनिक विश्व के इतिहास में सर्वप्रथम १९०८ में १५००० महिलाओं ने न्यूयॉर्क में एक विशाल रैली निकाल कर अपने काम करने के घंटों को कम करने, बेहतर तनख्वाह और वोट डालने जैसे अधिकारों के लिए अपनी लड़ाई शुरू की थी. इस आंदोलन से तत्कालीन सभ्य समाज में महिलाओं की स्थिति की हकीकत पहली बार सामने आई. और ये लड़ाई तब से चल रही है.
दुर्भाग्य की बात ये है कि १०० सालो में बहुत अंतर नहीं आया है समाज में महिलाओं की स्तिथि में. हर साल महिला दिवस पर महिलाओ की लैंगिक समानता की बात की जाती है. उसके सम्मान की बात की जाती है, उनके संवैधानिक अधिकारों की बात की जाती है और उनके प्रति बढ़ते अपराधों को रोकने की बात की जाती है. इसके बावजूद आज १०० सालों बाद भी असल में महिलाओं की स्तिथि अब भी वैसी ही है. आज भी विश्व के कई देशो में महिलाओं की हालत बेहद चिंताजनक है और दिन ब दिन महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराध, शिक्षा का अभाव और व्यवहारिक असामनता अगले कई सालो तक महिलाओं की स्तिथि सुधर ना पाने की तरफ इशारा करते है. अभी कुछ दिनों पहले ही मैंने कही पढ़ा था कि पुरुषो और महिलाओं के बीच समानता लाने में कुछ २०० साल लग सकते है. ऐसा कहने के पीछे आज के समय का परिदृश्य था.

अगर भारत की बात की जाए, तो २०१७ में लैंगिक असमानता के मामले में भारत दुनिया के १४४ देशों की सूची में १०८वें स्थान पर है जबकि २०१६ में भारत ८७ वें स्थान पर था. इसका मतलब ये हुआ कि बस १ साल में लैंगिक असमानता और बढ़ गई और भारत २१ पायदान नीचे लुढ़क गया. केवल भारत में ही महिलाएं असमानता की शिकार नहीं है, बल्कि कई विकसित देशो में भी ये असमानता है

हाल की घटनाओं को देखे तो २०१८ की आस्कर विजेता फ्रांसेस मैकडोरमेंड ने भी कुछ ऐसी असामनता के परिपेक्ष में बोला था. फ्रांसेस मैकडोरमेंड ने इन्क्लूजन राइडर्स की बात के साथ अपना भाषण ख़त्म किआ था. इन्क्लूजन राइडर्स असल में समानता के ही पक्ष में एक अनुच्छेद/ शर्त है जो हॉलीवुड में अभिनेता या अभिनेत्री रख सकते है. इन्क्लूजन राइडर्स किसी भी फिल्म में लैंगिक और जातीय समानता का सूचक है. फ्रांसेस मैकडोरमेंड बताना चाहती थी कि अभिनेताओं की तरह ही हॉलीवुड में अभिनेत्रियां भी प्रतिभासंपन्न है. इसलिए इन्क्लूजन राइडर्स के माध्यम से महिलाओं को भी बराबर का मौका और मिलना चाहिए.

जब भी महिला दिवस की बात होती है, कुछ पुरुष थोड़ा सा उखड़ जाते है. उनके अनुसार महिला दिवस का कोई मतलब ही नहीं है. ये बात तो अब एकदम साफ़ है कि पुरुष प्रधान समाज में महिलाओं की स्तिथि, महिलाओं के प्रति पुरुषों की सोच में बदलाव लाए बिना सुधर नहीं सकती. क्युकी इतने सालो के बाद भी पुरुषो का महिलाओं के प्रति रवैया खास बदला नहीं है. जरूरत है कि पुरुष माने कि स्त्री और पुरुष दोनों एक दूसरे के पूरक हैं प्रतिस्पर्धी नहीं. इसलिए महिला दिवस पर पुरुषो की बात अब ज्यादा होनी चाहिए. मैंने एक लेख भी ऐसा ही पढ़ा जो ऐसी ही बात पर ज़ोर दे रहा था. लेख के अनुसार महिला दिवस की सार्थकता महिलाओं के अपने अधिकारों के प्रति जागरूकता में नहीं, अपितु पुरुषों के उनके प्रति अपना नजरिया बदल कर संवेदनशील होने में है.

तो मैं चाहती हूँ कि अब से महिला दिवस पर पुरुषो को भी अच्छा मह्सूस हो. उन्हें भी सेल का फायदा मिले. वो भी अपने पसंदीदा रंग के कपडे पहन कर दिन बिताये. वो सभी पुरुष सराहे जाए जो महिलाओं के शशक्तिकरण में सहयोग देते है. पुरुषो को भी सम्मानित किया जाए उसी तरह जैसे महिलाओं को किया जाता है महिला दिवस पर. और उनके भी अपने कार्यक्रम हो जिसमे सभी पुरुष ये चिंतन करे कि महिलाओं के प्रति लड़को/पुरुषो और समाज का रवैया कैसे सुधरे. दिन तो महिला दिवस हो पर बात पुरुषो की भी हो.

(पहले प्रकाशित यहाँ : https://www.momspresso.com/parenting/cooperation-communication-and-affection-thee-keys-of-parenting/article/dina-to-mahilaom-ka-hai-para-bata-purushom-ki-hai)

This post is for #MONDAYMOMMYMOMENTS and linked with Deepa and Amrita.

Healthwealthbridge
Listen This Post Stop Listening Post

Comments

  1. आपने बहुतही अच्छे तरीकेसे अपनी बात राखी, महिला दिवस - यह अपने आपमें दर्शाता है की महिलाओको समाज में जो समानता का हक्क मिलना चाहिए वह नहीं मिल रहा | पुरष और स्त्री समाज रथ के दो पहिये कहा जा सकता है यदि समाजको आगे ले जाना है तो दोनों पहियों को एक साथ चलना ही होगा| जिस तरीके से आपने अपने ब्लॉग के लास्ट पेरेग्राफ में लिखा "पुरुषो को भी सम्मानित किया जाए उसी तरह जैसे महिलाओं को किया जाता है महिला दिवस पर." - यह भाव केवल और केवल एक महिलहि कर सकती है | इस महिला वर्ष के उपलक्षमें हम सबको समाज प्रगतिमें अपना सहयोग देनही चाहिए |

    ReplyDelete
  2. Bilkul sahi kaha aapne din to mahilayon Ka hai par baat purushon ki hai ....purushon ke khaas karyakrm hone chahiye jisme we Chintan Karen , kuch anpad purushon ko ikattha krke shikshit krne Ka prayaas kren , andar dil se jab tak smanta ki awaz Nahi uthegi tab tak mushkil hai

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

My Monsoon Love Hate Love Story

Last year, almost the same time, I packed every belonging of mine and landed to a place which is close to my heart. With bag and baggage, my family moved from Delhi to Lucknow. It was monsoon time when I came here and thank god I witnessed a prosperous rain. Lucknow, though smaller compared to Delhi, is a place I distinguish since childhood. The city of Nawabs is believed as the happiest city in India. As our move was well calculated, my husband and I made sure to have all those things in our lives that I missed being in Delhi. A bigger house (that we can afford), green surroundings, street food access that we missed in Delhi and people who talk in our native tongue.

The Hate Story

I hated the rain when I was in Delhi. My house was in a busy lane of a crowded Delhi locality, and I was living on the second floor of the building. Hence neither I had easy access to the road, nor to terrace. When it rained, I was forced to stay inside. Roads used to get sunk even after the rain of half an…

The Utopian World Of Smart Devices

I would like to start this post with telling readers my profession. I am a software professional who has a decade of experience in technology and software development. In those 10 years, I have very closely seen how technology has evolved. Of course, the first urge was the necessity that let every invention happen. And then technology got advanced to make the user experience better and further sound. In the chain of making every sort of experience pleasanter for users, the era of smart devices came. We all remember the time when smartphones came into the market. Before that, we had those dial phones and keypad mobiles. We were able to talk to the other party. But the progression of technology made it real to actually see with whom we talk. We still talk through phones but with added feel and warmth.

The Utopian World Of Smart Devices

Not only smartphones, but there has been an exponential increase in the number of smart devices around us in the last 5 years. When I first heard the ter…

Food Habits That I Am Going To Change This Year

This post is for New Year resolutions blog train. The blog train is hosted by Vartika, Alpana and Prerna,  sponsored by Pandora's Box and Recipe Dabba. My topic is Dr Feelgood - How are you planning to tweak your Food Habits for 2019 .  

We all desire to stay healthy and happy. Yes, happiness is very much connected to our health. But today's sedentary lifestyle has made us fall for quick meals and unhealthy choices. Over the course of time, these quick things give us side effects that rather don't go quick. Eventually, we fall prey to weight loss industry which asks for cutting sugar, salt, oils, carbs, dairy product and almost everything which is there in our kitchens since our grandparents time. We run after different diets (Ketogenic diet, Vegan diet, Raw food diet etc) and we even believe in schemes like having dinner before sunset, getting rid of rice, keeping a distance with fruits and avoiding any type of fat.

Is this way of keeping ourselves fit sustainable in the …