Skip to main content

दिन तो महिलाओं का है पर बात पुरुषों की है

कल सम्पूर्ण विश्व के साथ भारत में भी "महिला दिवस" मनाया जाएगा. इस बार ये थोड़ा सा और खास इसलिए भी है क्युकी २०१८ में यह आयोजन अपने १०० वें वर्ष में प्रवेश कर रहा है. आधुनिक विश्व के इतिहास में सर्वप्रथम १९०८ में १५००० महिलाओं ने न्यूयॉर्क में एक विशाल रैली निकाल कर अपने काम करने के घंटों को कम करने, बेहतर तनख्वाह और वोट डालने जैसे अधिकारों के लिए अपनी लड़ाई शुरू की थी. इस आंदोलन से तत्कालीन सभ्य समाज में महिलाओं की स्थिति की हकीकत पहली बार सामने आई. और ये लड़ाई तब से चल रही है.
दुर्भाग्य की बात ये है कि १०० सालो में बहुत अंतर नहीं आया है समाज में महिलाओं की स्तिथि में. हर साल महिला दिवस पर महिलाओ की लैंगिक समानता की बात की जाती है. उसके सम्मान की बात की जाती है, उनके संवैधानिक अधिकारों की बात की जाती है और उनके प्रति बढ़ते अपराधों को रोकने की बात की जाती है. इसके बावजूद आज १०० सालों बाद भी असल में महिलाओं की स्तिथि अब भी वैसी ही है. आज भी विश्व के कई देशो में महिलाओं की हालत बेहद चिंताजनक है और दिन ब दिन महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराध, शिक्षा का अभाव और व्यवहारिक असामनता अगले कई सालो तक महिलाओं की स्तिथि सुधर ना पाने की तरफ इशारा करते है. अभी कुछ दिनों पहले ही मैंने कही पढ़ा था कि पुरुषो और महिलाओं के बीच समानता लाने में कुछ २०० साल लग सकते है. ऐसा कहने के पीछे आज के समय का परिदृश्य था.

अगर भारत की बात की जाए, तो २०१७ में लैंगिक असमानता के मामले में भारत दुनिया के १४४ देशों की सूची में १०८वें स्थान पर है जबकि २०१६ में भारत ८७ वें स्थान पर था. इसका मतलब ये हुआ कि बस १ साल में लैंगिक असमानता और बढ़ गई और भारत २१ पायदान नीचे लुढ़क गया. केवल भारत में ही महिलाएं असमानता की शिकार नहीं है, बल्कि कई विकसित देशो में भी ये असमानता है

हाल की घटनाओं को देखे तो २०१८ की आस्कर विजेता फ्रांसेस मैकडोरमेंड ने भी कुछ ऐसी असामनता के परिपेक्ष में बोला था. फ्रांसेस मैकडोरमेंड ने इन्क्लूजन राइडर्स की बात के साथ अपना भाषण ख़त्म किआ था. इन्क्लूजन राइडर्स असल में समानता के ही पक्ष में एक अनुच्छेद/ शर्त है जो हॉलीवुड में अभिनेता या अभिनेत्री रख सकते है. इन्क्लूजन राइडर्स किसी भी फिल्म में लैंगिक और जातीय समानता का सूचक है. फ्रांसेस मैकडोरमेंड बताना चाहती थी कि अभिनेताओं की तरह ही हॉलीवुड में अभिनेत्रियां भी प्रतिभासंपन्न है. इसलिए इन्क्लूजन राइडर्स के माध्यम से महिलाओं को भी बराबर का मौका और मिलना चाहिए.

जब भी महिला दिवस की बात होती है, कुछ पुरुष थोड़ा सा उखड़ जाते है. उनके अनुसार महिला दिवस का कोई मतलब ही नहीं है. ये बात तो अब एकदम साफ़ है कि पुरुष प्रधान समाज में महिलाओं की स्तिथि, महिलाओं के प्रति पुरुषों की सोच में बदलाव लाए बिना सुधर नहीं सकती. क्युकी इतने सालो के बाद भी पुरुषो का महिलाओं के प्रति रवैया खास बदला नहीं है. जरूरत है कि पुरुष माने कि स्त्री और पुरुष दोनों एक दूसरे के पूरक हैं प्रतिस्पर्धी नहीं. इसलिए महिला दिवस पर पुरुषो की बात अब ज्यादा होनी चाहिए. मैंने एक लेख भी ऐसा ही पढ़ा जो ऐसी ही बात पर ज़ोर दे रहा था. लेख के अनुसार महिला दिवस की सार्थकता महिलाओं के अपने अधिकारों के प्रति जागरूकता में नहीं, अपितु पुरुषों के उनके प्रति अपना नजरिया बदल कर संवेदनशील होने में है.

तो मैं चाहती हूँ कि अब से महिला दिवस पर पुरुषो को भी अच्छा मह्सूस हो. उन्हें भी सेल का फायदा मिले. वो भी अपने पसंदीदा रंग के कपडे पहन कर दिन बिताये. वो सभी पुरुष सराहे जाए जो महिलाओं के शशक्तिकरण में सहयोग देते है. पुरुषो को भी सम्मानित किया जाए उसी तरह जैसे महिलाओं को किया जाता है महिला दिवस पर. और उनके भी अपने कार्यक्रम हो जिसमे सभी पुरुष ये चिंतन करे कि महिलाओं के प्रति लड़को/पुरुषो और समाज का रवैया कैसे सुधरे. दिन तो महिला दिवस हो पर बात पुरुषो की भी हो.

(पहले प्रकाशित यहाँ : https://www.momspresso.com/parenting/cooperation-communication-and-affection-thee-keys-of-parenting/article/dina-to-mahilaom-ka-hai-para-bata-purushom-ki-hai)

This post is for #MONDAYMOMMYMOMENTS and linked with Deepa and Amrita.

Healthwealthbridge

Comments

  1. आपने बहुतही अच्छे तरीकेसे अपनी बात राखी, महिला दिवस - यह अपने आपमें दर्शाता है की महिलाओको समाज में जो समानता का हक्क मिलना चाहिए वह नहीं मिल रहा | पुरष और स्त्री समाज रथ के दो पहिये कहा जा सकता है यदि समाजको आगे ले जाना है तो दोनों पहियों को एक साथ चलना ही होगा| जिस तरीके से आपने अपने ब्लॉग के लास्ट पेरेग्राफ में लिखा "पुरुषो को भी सम्मानित किया जाए उसी तरह जैसे महिलाओं को किया जाता है महिला दिवस पर." - यह भाव केवल और केवल एक महिलहि कर सकती है | इस महिला वर्ष के उपलक्षमें हम सबको समाज प्रगतिमें अपना सहयोग देनही चाहिए |

    ReplyDelete
  2. Bilkul sahi kaha aapne din to mahilayon Ka hai par baat purushon ki hai ....purushon ke khaas karyakrm hone chahiye jisme we Chintan Karen , kuch anpad purushon ko ikattha krke shikshit krne Ka prayaas kren , andar dil se jab tak smanta ki awaz Nahi uthegi tab tak mushkil hai

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

पत्नियों के लिए भी एक व्रत का प्रस्ताव..

अरे याद है ना.. हर साल की तरह वो प्यार का त्यौहार फिर से आ गया.. अच्छा तो आप कंफ्यूज हो गई कि ये वैलेंटाइन डे तो कब का जा चुका अब किस प्यार के त्यौहार कि बात करने लगी मैं.. बताती हूँ बताती हूँ.. अपनी हिन्दू सभ्यता में भी एक प्यार का त्यौहार होता है "करवा चौथ.."अहा, क्या उत्सव है प्रेम का. पहले प्रेम मिश्रित सेवा फिर सेवा के बदले प्रेम मिश्रित उपहार. वाह..

बाजार पट गए है डिज़ाइनर चमकदार छलनी से लेकर गोटे लगी थालियों से और होने भी चाहिए. आखिर इस कदर महान संस्कृति जिसमें पति को देवता मान कर, उनके लिए दिन भर भूखे प्यासे रहकर पत्नियां व्रत करती हैं, उनकी उम्र बढ़ाने जैसा ईश्वरीय कार्य करती हैं, उस दैवीय व्रत का इतना उत्सव तो होना ही चाहिए. और याद रहे चरणस्पर्श करना एकदम जरूरी है व्रत के नियमो के हिसाब से नहीं तो पति की उम्र से छेड़ छाड़ हो सकती है. समझ नहीं आता इतना ज्ञान आया कहा से हमारे पूर्वजो में जिससे ये पता चला कि अगर पत्नी दिन भर भूखे प्यासे रहकर चाँद की पूजा करे तो पति की उम्र साल दर साल बढ़ती जाती है? वैसे धन्य है भारतीय महिलाये. पति चाहे शराबी, जुवारी कबाबी कैसा भी हो, पतियों…

Be Healthy With Infused Water And InstaCuppa #SuperBloggerChallenge2018 #Instacuppa

Two things are in my mind mostly these days: Having a healthy Lifestyle and Staying Happy.
Happiness and good health are very much connected to each other, isn't it? If you are happy your health remains good. And if you are healthy, you keep on increasing your happiness. The easiest trick to stay healthy is to have a good water intake every day. However, as simple as it looks, for most of the people, drinking sufficient water every day is a task. They somehow ignore this very essential need of the human body. Every single cell in our body needs water to function properly. The result of less water intake is eventual dehydration, dull face, fatigue, bloating and weak immune system.

Can drinking water help you stay healthy? Spoiler alert, YES IT CAN!

Now, if you are bored of having the plane, tasteless water, then you must know about INFUSED WATER. Infused water is adding different kinds of fruit, vegetables, and herbs to water and letting it settle for some time. This way, all antiox…

The Young Chronicle - A Personal News App For Kids

Our kids these days are spending a good amount of time checking and using today's smartphone. And the most amusing thing is kids are getting, even more, smarter to understand this whole world of apps, games, selfies and video recording. In no time they understand how such and such app works. In very less time, they skill those gimmicky games and challenge us showing the score. However, this screen time should be controlled for good health of a child. For parents, it is a responsibility to keep an eye on what content kids are watching, what types of games they are playing and what things they are sharing on social media.

 Being a new generation people, we can't live separated from our phones. Neither can we keep our kids completely away from using phones. But what we can do is to facilitate things that can be helpful for kids even if they come in the form of phone apps and games. Educational apps and informative games can provide our kids much-needed insight and knowledge. One…